सिरसा । हरियाणा की सिरसा विधानसभा सीट के लिए  भाजपा में कुछ दिनों पहले शामिल हुईं हरियाणवी लोक गायिका सपना चौधरी से पार्टी नाराज है। उन्होंने यहां एक प्रतिद्वंद्वी पार्टी के प्रत्याशी गोपाल कांडा का प्रचार किया था। बताया जा रहा है कि सपना के इस कदम से पार्टी असहज हुई है और उनके किसी भी तरह के चुनाव प्रचार करने पर रोक लगा दिया गया है। सपना ने सिरसा से हरियाणा लोकहित पार्टी के प्रत्याशी कांडा के लिए प्रचार किया था। कांडा हरियाणा सरकार में मंत्री रह चुके हैं और राज्य की राजनीति में एक प्रभावशाली नेता माने जाते हैं। कांडा का नाम उस समय चर्चा में रहा था, जब उनकी विमानन कंपनी की एक महिला कर्मचारी ने खुदकुशी कर ली थी।
सूत्रों ने बताया कि सपना ने पार्टी नेताओं को जानकारी दी कि उनके सलाहकारों ने उन्हें सलाह दी थी कि वह कांडा का प्रचार कर सकती हैं क्योंकि कांडा बतौर निर्दलीय मैदान में हैं। वह कांडा के पक्ष में रोड शो भी करने वाली थीं। सूत्रों ने बताया कि सपना को कांडा के पक्ष में प्रचार नहीं करने और उनके किसी भी प्रचार से खुद को फौरन असंबद्ध करने को कहा गया है। दिल्ली भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि कांडा के समर्थन में वोट मांग रही सपना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। शुक्रवार को भाजपा नेताओं के संज्ञान में यह वीडियो आया। कांडा के समर्थन में सपना के पोस्टर भी सामने आए थे। दिल्ली भाजपा नेताओं के एक धड़े ने पार्टी विरोधी गतिविधियों को लेकर सपना के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। इसके बाद भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने सपना को चुनाव प्रचार करने से रोक दिया है। मालूम हो कि भाजपा ने सिरसा से प्रदीप रतुसरिया को प्रत्याशी बनाया है। 21 अक्टूबर को होने वाले मतदान से पहले प्रचार के आखिरी दिन शनिवार को खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां जनसभा को संबोधित किया।