• क्या राजस्थान में बिजली बिल माफी के लिए कहेंगी प्रियंका गांधी
  • बिल नहीं चुकाया तो राजस्थान में देनी होगी पेनल्टी

जयपुर। प्रवासी मजदूरों को लेकर राजस्थान और उत्तरप्रदेश में बस के बिल को लेकर छिड़ी बस पॉलिटिक्स अभी खत्म ही नहीं हुई थी कि अब प्रियंका गांधी को बिजली बिल माफी को लेकर बिल पॉलिटिक्स शुरू हो गई है। उत्तरप्रदेश की योगी सरकार से प्रियंका गांधी ने बिजली बिल माफ करने की अपील की थी। अब इस पर राजस्थान भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने उन्हें प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार को भी इस सम्बन्ध में चिट्ठी लिखने को कहा है।

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने यूपी की ‘बस पॉलिटिक्स’ पर तंज कसते हुए कहा, ‘बस बस बस बहुत हो गया, मजदूर आपकी बस में बैठकर सुरक्षित पहुंच भी गए होंगे, अब एक पत्र बिजली माफी का अशोक गहलोत को लिख दो। केवल तीन महीनों का माफ करवा दीजिये’। उधर, सांसद दीया कुमारी ने तो गहलोत सरकार पर वादा खिलाफी तक का आरोप लगा दिया है।
राजस्थान में कोरोना संकटकाल के दौरान फिलहाल 3 महीने के बिजली के बिल स्थिगित कर दिए थे लेकिन हाल ही गहलोत सरकार ने 31 मई तक पिछला पूरा भुगतान नहीं करने पर 2 फीसदी पेनल्टी लगाने का फरमान जारी किया है। राजस्थान के उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने इसे आमजन के साथ सरकार का मजाक करार दिया है। उन्होंने कहा है कि 3 महीने के बिजली के बिल माफ करने के बजाय उल्टा उनके साथ ब्याज और पेनल्टी वसूलने का आदेश आमजन के जख्मों पर नमक छिड़कना है।
जनता को भारी भरकम बिजली बिल थमाने को लेकर जयपुर के पूर्व राजपरिवार की सदस्य और सांसद दीया कुमारी ने राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार पर वादा खिलाफ़ी का आरोप लगाया है। सांसद ने कहा कि यह जनता की भावनाओं से खिलवाड़ किया है। कोरोना वायरस के कारण पूरे राज्य में पिछले एक माह से लॉकडाउन है। कारखानों और उद्योगों में कार्य बंद है। आमजनता को जीवन यापन में मुश्किलात का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में बिल माफी तो दूर की बात, विद्युत विभाग की ओर से मनमर्जी से भारी भरकम बिल बनाकर भेजे जा रहे हैं।